खुल सकती हैं गांठें, बस जरा से जतन से...
पर लोग कैंचियां चलाकर, सारा फसाना बदल देते हैं।

Share