जरा नजरों से देख लिया होता, 
अगर तमन्ना थी डराने की...
हम यूं ही बेहोश हो जाते,
क्या जरूरत थी मुस्कुराने की!!

Share