तुम चाहो या न चाहो, इसका गम नहीं
तुम पास से गुजर जाओ, तो चाहत से कम नहीं
माना के मेरी चाहतों की तुम्हें कद्र नहीं
कद्र मेरी उनसे पूछो, जिन्हें मैं हासिल नहीं

Share