नजरें मिले तो प्यार हो जाता है
पलकें उठे तो इजहार हो जाता है
न जाने क्या कशिश है चाहत में
के कोई अंजान भी हमारी
जिंदगी का हकदार हो जाता है

Share