♥ Love Shayari ♥

View All

आपको मुफ़्त में जो मिल गये हम,
आप क़दर ना करें ये आपका हक़ बनता है….....

मेरी ही नहीं सुनता, ये दिल💖..

तेरी तो, बाते हीं बहुत करता है...

मजा आता अगर गुजरी हुई बातों का अफसाना, 
कहीं से तुम बयाँ करते, कहीं से हम बयाँ करते।

कहाँ से आती है हिचकिचा 
न जाने कोन फरियाद करता है 
खुदा हमेशा सलामत रखे उनको 
जो दिल से हमे याद करता है ।

रूठी जो जिदंगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो गम वो सह लेंगे हम,
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे तो,
निकलते हुए आंसूओ में भी मुस्कुरा लेंगे हम।

तमीज़दार होने का एक नुकसान यह भी है.....

कितनी ही बातें दिल के अन्दर रह जाती है!!

साथ रहते यूँ ही वक़्त गुज़र जायेगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,
जी लो ये पल जब हम साथ हैं,
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले जायेगा।

ये प्रेम, प्यार, इश्क़,  के.... 

एक-एक अक्षर विकलांग क्यों हैं!!

क्योंकि

कहानिया भी इश्क़ की वही लिखीं और पढ़ी गयी जो अधूरे इश्क़ को बयां करती है

हिचकियां मेरी गवाह हैं

नींद उसकी भी तबाह है

ये इश्क भी एक अजीब एहसास होता है…
अल्ज़फों से ज्यादा निगाहोसे बया होता है…

ये बात भी उन्हें तँग करती है.... 

कि तँग नहीं करते हम उन्हें आजकल!! 

दर्जी भी सिल देता है जेब बायीं ओर...

वैसे ही क्या कम थे ये बोझ दिल पर !! 

तुझ से मेरी दूरी इतनी... 

मृग में बसी कस्तूरी जितनी!! 

ये अलग बात है कि वो मुझे हासिल नही .....
मगर उसके सिवा कोई मेरे इश्क़ के काबिल भी तो नही!!!!

हुस्न की इश्क से जब जब बात होती है,
महफिल में उनकी बात से हर बात होती है,
वह कहते रहे कोई बात नहीं हम दोनों में,
पर उनकी कहानी से नई शुरूआत होती है

यादो का शिलशील बनाये रखना दोस्त हो तो दोस्ती निभाये रखना ।
जान तो नही मागते कमसे कम जान पहचान तो बनाये रखना ।।

जलो तो ऐसे किसी को उजाले मिल जाएँ
यूँ खा़म खाँ सीने में दिल ना जलाया कर।।

दिल को था आपका बेसबरी से इंतजार,
पलके भी थी आपकी एक झलक को बेकरार,
आपके आने से आयी है कुछ ऐसी बहार,
कि दिल बस मांगे आपके लिये खुशियाँ बेशुमार!

मुझे कहाँ मालूम था कि ...
सुख और उम्र की आपसमें बनती नहीं...

कड़ी महेनतके बाद सुखको घर ले आया..
तो उम्र नाराजगी जताकर चली गई..

बहुत दिनों के बाद उसका कोरा कागज़ आया

शायर हुँ साहब लिखी हुई खामौशी पढ ली मैने.....!!!!

चेहरे और पोशाक़ से बस आँकती है दुनिया ..... 

रूह में उतरकर कब झाँकती है दुनिया !!!

कुछ और नही पल भर के लिए हवा ही बना दे, 

कसम से सिर्फ तुम्हे ‘;छु’; कर लौट आएंगे..!

भूल जाने की कोशिशें तो खूब की थी मगर, याद तुम आते रहें भूलते भूलते.......

संगरेज़ो(stone) को हमने ख़ुदा कर ही दिया, आखरिश(at the end) रात-दिन पूजते पूजते!!!!

काश…!! एक खवाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, वो आ कर गले लगा ले मेरी इजाजत के बगैर..

खुश रहे या उदास रहे ,कोई परवाह नही......
शर्त ये है कि ज़िन्दगी तेरे आस-पास रहे!!!!!!

जिक्र तिल का था...


जो गुड़ पे लगा,
वो गजक हो गया !

जो गाल पे लगा,
तो गजब हो गया !!

सिर्फ लफ्ज़ो को न सुनो, कभी आँखे भी पढ़ो...

कुछ सवाल बड़े खुद्दार हुए करते हैं!!!

वक़्त कम मिला साथ 
वक़्त बिताने को....!!
फिर एक जन्म लेंगे तुमसे
मुकम्मल इश्क़ फरमाने को....!!

हाथ महकते रहे तमाम दिन मेरे.... 

रात जो ख्वाब में बाल सँवारे मैंने तेरे !!

Prev 1   2   3   4   5   Next >>