♥ Love Shayari ♥

View All

"ये छाँव देंगे तुम्हें उम्र भर मुहब्बत की 
 दरख़्त हैं, आदम की ज़ात थोड़ी हैं.."

शिकवा  करने गये थे, पर इबादत  सी हो गई...

जिद थी उसे भुलाने की, मगर उसकी आदत सी हो गई!!!
 

बेचैनियाँ बाजारों में नहीं मिला करती, मेरे दोस्त,

इन्हें बाँटने वाला,कोई बहुत नजदीक का होता हैं।

जरुरी तो नहीं हर चाहत का मतलब इश्क हो 
कभी कभी कुछ अनजान रिश्तों के लिए भी दिल बेचैन हो
 जाता है..!!

मुख़्तसर सा गुरूर भी ज़रूरी 
है ,जीने के लिये !

ज्यादा झुक के मिलो 
तो दुनिया पीठ को पायदान 
बना लेती है !!

तेरे इश्क का सजदा किया है मैंने...

तेरी सूरत से नजरे हटाऊँ कैसे..

दर्द हल्का है... 
साँस भारी है, 

जिए जाने की... 
रस्म जारी है!!! 

इतना भी आसान नहीं होता अपने ढंग से ज़िंदगी जी पाना...

बहुतों को खटकने लगते हैं, जब हम खुद को जीने लगते हैं...

आशिकों की किस्मत में जुदा होना ही लिखा होता है,
सच्चा प्यार होता है तो दिल को खोना ही लिखा होता है,
सब जानते हुए भी में भी प्यार उससे कर बैठा,
भूल गया के मोहब्बत में सिर्फ रोना ही लिखा होता है

उँगलियाँ ही निभा रही हैं 
     मोबाइल पे रिश्तों को
     आजकल..

  ज़ुबाँ को अब निभाने में    
   बड़ी तक़लीफ़ होती है !

   सब टच में बिजी है..

   भले ही टच में कोई न हो !

जिन्हें फुर्सत नहीं मिलती.....ज़रा सा याद करने की।....

उन्हें कह दो..... हम उनकी याद में फुर्सत से बैठे हैं!.....

क्यों यह हुस्न वाले इतने मिज़ाज़ -ऐ -गरूर होते है

इश्क़ का लेते है इम्तिहान और

खुद तालीम -ऐ -जदीद होते है