किसी की तलाश में न निकलो साहब,
लोग खोते नहीं अक्सर बदल जाते हैं..!!





खुशहाली में इक बदहाली, तू भी है और मैं भी हूँ
हर निगाह पर एक सवाली, तू भी है और मै भी हूँ
.
.
.
.

दुनियां कुछ भी अर्थ लगाये,हम दोनों को मालूम है
 भरे-भरे पर ख़ाली-ख़ाली , तू भी है और मै भी हूँ..!!





भूल जाने की कोशिशें तो खूब की थी मगर, याद तुम आते रहें भूलते भूलते.......

संगरेज़ो(stone) को हमने ख़ुदा कर ही दिया, आखरिश(at the end) रात-दिन पूजते पूजते!!!!





खुश रहे या उदास रहे ,कोई परवाह नही......
शर्त ये है कि ज़िन्दगी तेरे आस-पास रहे!!!!!!





सोये कहाँ थे, आँखों ने तकिये भिगोये थे......

हम भी कभी किसी के लिए खूब रोये थे!!!!!!!!





दिल की दहलीज़ पे यादों के दीये रखै हैं
आज तक हमने ये दरवाज़ें खुले रखै हैं


हम पे जो गुज़री, ना बताया, ना बतायेंगे कभी......
कितने ही ख़त अब भी तेरे नाम लिखे रखें है!!!!!!





अब रिहा कर दो अपने "ख्यालो" से मुझे ........!!!
लोग सवाल करने लगे हैं कि कहाँ रहते हो आज कल..!!!!





यूँ असर डाला है, मतलबी लोगों ने दुनिया पर,

हाल भी पूछो तो, लोग समझते हैं कि कोई काम होगा.





सुबह, मेरे हाथों में अखबार पकड़ते ही....

उनका चाय चढ़ा देना... शायद इश्क़ है!!





तहज़ीब और संस्कार........

हथियार है हुस्नवालों के





बस क्या बताऊं यारों, वजह उसे चाहने की....

भरी महफ़िल सिवा उसके, किसी सर दुपट्टा ना दिखा!





इश्क़ की फितरत ही, मलंग से यूँ रंग घोलना.....

जब बाजी है इशारों की , तो जुबां से क्या बोलना!!





"उम्र" ना पूछो
"इश्क़" करने वालों की हुज़ूर.
"मिजाज़-ए-आशिक़ी"
रखने वाले "जवां" ही रहते हैं.





सारा जहा उसी का है
जो मुस्कुराना जानता है
रोशनी भी उसी की है जो शमा
 जलाना जानता है
हर जगह मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे है।
 लेकीन इश्वर तो उसीका है जो
  "सर" झुकाना जानता है!





अब तो हर बात याद रहती है

ग़ालिबन मैं किसी को भूल गया





तू जब रूबरू आईने के संवरती होगी
सोच.... आईने पे क्या गुजरती होगी!!





एक ख्याल ही तो हूँ मैं...याद रह जाऊँ...तो याद रखना...!
वरना सौ बहाने मिलेंगे...भूल जाना मुझे...!!!





मदहोश ना कर मुझे अपना चेहरा दिखा कर...
मोहब्बत अगर चेहरे से होती तो खुदा दिल नही बनाता..!!




♥ Love Images ♥

Prev 1   2   3   4   5   6   7   8   9   10   11   Next