चलो अब जाने भी दो....क्या करोगे दास्तां सुनकर,,, ख़ामोशी तुम समझोगे नही....और बयां हमसे होगा नही !!





मेरे शहर में 
           ख़ुदा की कमी नहीं है,
दिक्कतें तो मुझे आज 
          भी इंसान ढूंढने में होती है....





दिल ने सोचा था उसे टूट के चाहेंगे.,,,,,,,,
सच मानो... टूटे भी बहुत और चाहा भी बहुत......!





एक “सफ़र” ऐसा भी होता है दोस्तों……
जिसमें “पैर” नहीं “दिल” थक जाता है…..





वादा भी करो और इरादा भी करो,
पर ख्वाईशो मे खुद को आधा न करो ......!!
बदल देते हैं लोग कर्म से ही दुनिया,
तकदीर पर भरोसा कुछ ज्यादा न करो ....ll





हर मर्ज़ का इलाज नहीं दवाख़ाने में,
कुछ दर्द चले जाते है सिर्फ़ मुस्कुराने में !!





सख़्त हाथों से भी, छूट जाती हैं कभी ऊँगलियाँ.
रिश्ते ज़ोर से नहीं, तमीज़ से थामे जाते हैं..!!





अब तुझे रोज न सोचूं तो बदन टूटता है फराज़,

  एक उम्र हो चली है तेरी याद का नशा करते करते........!!!!





किसी ने हमसे कहा की इश्क़ धीमा ज़हर है,

हमने मुस्कुरा के कहा हमें भी जल्दी नहीं है...





कभी कभी मेरी खामोशी को भी समझ लिया करो,

रोज रोज लिखने का दिल नहीं होता





शायरी भी एक खेल है
शतरंज का...
जिसमे लफ़्ज़ों के मोहरे
मात दिया करते हैं एहसासों को...





आपकी मुस्कान हमारी कमज़ोरी है,
कह ना पाना हमारी मजबूरी है.
आप क्यों नहीं समझते इस खामोशी को,
क्या खामोशी को ज़ुबान देना ज़रूरी है?





“मिला वो भी नही करते,मिला हम भी नही करते.”“दगा वो भी नही करते,दगा हम भी नही करते.”“उन्हे रुसवाई का दुख,हमे तन्हाई का डर”“गिला वो भी नही करते,शिकवा हम भी नही करते.”“किसी मोड़ पर मुलाकात हो जाती हैअक्सर”“रुका वो भी नही करते,ठहरा हम भी नही करते.”“जब भी देखते हैं उन्हे,सोचते है कुछ कहें उनसे.”“सुना वो भी नही करते,कहा हम भी नही करते.”“लेकिन ये भी सच है,की मोहब्बत उन्हे भी हे हमसे”“इकरार वो भी नही करते,इज़हार हम भी नही करते.”...............





तेरे बिना जीना सीख रहे हैं मगर

तेरी यादें दिल से नही जाती
तेरी यादों को जितना  है भूलाते
उससे ज्यादा हैं आती





तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,

बस इश्क की फितरत ही है बेवजह होना..

मोहब्बत है तभी तो बेवजह है,

वजह होती तो साजिश होती..l





आंखें पढ़ो और जानो हमारी रज़ा क्या है.....

हर बात लफ़्ज़ों से बयान हो तो फिर मज़ा क्या है!





कभी बुलाया तो आएंगे जरूर
पियेगे आपके हाथो से

सुना है चाय बनाती हो
तो गली महक उठती है





उनके उठते ही हम जहाँ से उठे........
उफ़ क्या क़यामत है दिल का आ जाना!!!!!




♥ Love Images ♥

Prev 1   2   3   4   5   6   7   8   9   10   Next