ताल्लुकात बढ़ाने हैं तो 
कुछ आदतें बुरी भी सीख ले ........

ऐब न हों..
तो लोग महफ़िलों में नहीं बुलाते...!