परिस्थिति आदमी को परदेशी बना देता है!
वर्ना अपनी गली में जीना कौन नहीं चाहता है!