ज़रा सी रंजिश पर,ना छोड़,
किसी अपने का दामन,
ज़िंदगी बीत जाती है,अपनो को अपना बनाने में !