नादान थे तो दोस्त थे.
     जवान हुए तो 
     हिन्दू-मुस्लिम 
        बन गए.
______
      - गुलज़ार