"तासीर इतनी ही काफी है 
की तू मेरा दोस्त है..

क्या ख़ास है तुझ में 
ये तो कभी सोचा ही नही".