हमें कहाँ पता था कि इश्क़ होता क्या है

बस तुम मिले और जिंदगी मोहब्बत बन गयी

Share