नहीं बनता

जो सुई का दर्द ना सहे वो फूल कभी भी हार नहीं बनता।
जो संघर्षों से इन्कार कर दे वो कभी अवतार नहीं बनता।

जो छीनी की चोट से इन्कार कर दे वो पत्थर कभी भगवान नही बनता।
अनुभव की कसौटी पर जब तक कसी ना जाए सूचना वो कभी ज्ञान नहीं बनता।

जब तक भयंकर आँच में ना तपे सोना वो कुन्दन नहीं बनता।
जब तक दिल खोलकर बाँटा ना जाए प्यार वो अभिनन्दन नहीं बनता।

जब तक पानी में डूबने का जोखिम ना ले कोई कभी तैराक नहीं बनता।
जब तक सच बोलने का साहस ना हो दिल में कोई बेबाक नहीं बनता।

जो सहूलियतों में ही खोजते हैं जीवन उनका कभी कोई मकाम नहीं बनता।
औलाद सपूत ही सही बिना तालीम के फ़कत वसीयतों से काम नहीं बनता।

बिना जोखिम और संघर्षों के कभी कामयाबी का कोई इतिहास नहीं बनता।
तुम कुछ उल्लेखनीय कर ही नहीं रहे 'बुध' अगर तुम्हारा उपहास नहीं बनता।

Share