जिन्दंगी को समझना बहुत मुशकिल हैं.
कोई सपनों की खातिर “अपनों” से दूर रहता हैं…..
और , कोई “अपनों” के खातिर सपनों से दूर !

Share