कौटिल्य विष्णुगुप्त वतस्यांन बन गया

** चाणक्य ***

जब चाणक्य के बाप चणक के सिर को मगध के राजा नंद ने काट कर सूली पर लटका दिया था ,तो उस वक़्त चाणक्य की आयु 6 साल थी । तब उसने क्या किया ? इसे लिखने का प्रयास किया है ।

यह कौन है ,जो लड़ रहा है ।
खंबे के ऊपर चढ़ रहा है ।
नहीं दिखाई दे रही इसको काली रात ।
नहीं दिखती इसको होती बरसात ।
चणक का सिर ढका है ,इस मीनार पर ।
राजा नंद का आदेश है ,इस मीनार पर ।
ना चढ़े इस पर कोई , यह आदेश है मेरा ।
जो उतारे चणक शीश ,प्रबल शत्रु है ।
मेरा अरे 6 साल का यह बालक , फिर भी चढ़ता जाता है ।
राजाज्ञा का विरोध कर फिर भी बढ़ता जाता है ।

पकड़ो - पकड़ो शीश लेकर भाग रहा है ।
जंगल की ओर शीश लेकर भाग रहा है ।
गुम हो गया यह ,अब इसको ढूंढे कहां ?
दूर एक जगह कोटिल्य शपथ खा रहा है ।
नंद का सर्वनाश ही जीवन लक्ष्य है ।
बिस्तर त्यागा , और कच्चा अन्न हीं अब भक्ष्य है ।
रुक तक्षशिला की ओर कर , ज्ञान प्राप्ति जरूरी है ।
लक्ष्य को पाने की खातिर ,ज्ञान बहुत जरूरी है ।

गुरु बन तक्षशिला से , वापस मगध में आऊंगा 
नंद का सर्वनाश कर ,पूरे भारत को बताऊंगा ।
शिष्यों की एक फौज खड़ी करनी है ।
हर राह पुनः सजनी सवरनी है ।
मेरी राह में , जो भी कोई आएगा ।
अमात्य हो या राक्षस ,सब को मिटाऊंगा ।
आंखों में सपने भर , पग-पग चल दिया ।
चणक पुत्र चाणक्य तक्षिला चल दिया ।

अब चाणक्य महान गुरु बन चुका है ।देश दुनिया मे उनका बड़ा नाम है ।और वे विष्णु गुप्त वात्स्यानन के नाम से प्रसिद्ध है । लेकिन जो प्रतिज्ञा उन्होंने बचपन मे ली थी , वो आज भी उनकी आँखों मे किसी लावे की भांति जल रही है ।तब उन्होंने क्या किया ?

कौटिल्य विष्णुगुप्त वतस्यांन बन गया है ।
गुरु परंपरा में महान गुरु बन गया है ।
पर आंखों में अभी भी कुछ अखरता है ।
नंद नाश का सपना आंखों में जलता है ।
एक दिन कदम , मगध की ओर चल दिए 
सपने ने हकीकत का रूप धर लिए ।
चंद्रगुप्त जैसे राह तक रहा था ।
गुरु की राह तक रहा था ।
गुरु शिष्य का मिलन केंद्र मगध था ।
चंद्रगुप्त के हाथ ही नंद का वध था ।

और एक दिन संग्राम घनघोर हुआ ।
हर और चारों ओर हुआ । 
कैसा भयानक गृह युद्ध चाणक्य ने करवाया था ।
नंद का नाश बहुत नजदीक हो आया था ।
गर्दन ,शीश से अलग हो चुकी थी ।
नयी पताका , मगध पर फैल चुकी थी ।
चाणक्य ने आज पका भोजन खाया है ।
शपथ से मुक्त होने का दिन आया है ।
चणक का उसने श्राद्ध कर दिया है ।
एक नया इतिहास लिख दिया है ।

इसके बाद के चाणक्य को हम सब राजनैतिक चाणक्य के रूप में जानते है ।

Share


Love Memes


Love Images
Ringtones
Shayari
Love Calculator
Love Memes
Type in Hindi